• माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा आधुनिक हिन्दी खड़ी बोली के जनक भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी की प्रतिमा का अनावरण
    माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा आधुनिक हिन्दी खड़ी बोली के जनक भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी की प्रतिमा का अनावरण
  • भारत के माननीय राष्ट्रपति जी द्वारा लखनऊ में डॉ भीमराव अंबेडकर स्मारक एवम् सांस्कृतिक केंद्र का शिलान्यास
    भारत के माननीय राष्ट्रपति जी द्वारा लखनऊ में डॉ भीमराव अंबेडकर स्मारक एवम् सांस्कृतिक केंद्र का शिलान्यास कार्यक्रम 
  • चौरी चौरा शताब्दी वर्ष समारोह का लोगो प्रदेश सरकार द्वारा जारी किया गया |
    ""
  • सांस्कृतिक परम्पराओं को सहेजने की पहल
    सांस्कृतिक-परम्परा
  • नव वर्ष के आगमन पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम
    सांस्कृतिक-कार्यक्रम
श्री-योगी-आदित्यनाथ

श्री योगी आदित्यनाथ

माननीय मुख्यमंत्री
उत्तर प्रदेश

डॉ।-नीलकंठ-तिवारी

डॉ0 नीलकंठ तिवारी

माननीय मंत्री संस्कृति
(स्वतंत्र प्रभार) उत्तर प्रदेश

मुखपृष्ठ

हमारे बारे में

प्रेक्षागृह एवं सभागार बुकिंग

सभागार

संस्कृति विभाग, उ0प्र0 अपनी विविध इकाईयों एवं अधीनस्थ संस्थाओं द्वारा विभागीय प्रेक्षाग्रहों सभागारों में सभी विधाओं के गायन, वादन, नृत्य, नाटक आदि की प्रस्तुतियां, संगोष्ठी, सेमिनार तथा पेंटिंग आदि नियमित इससे आयोजित किये जाते हैं।

उत्तर प्रदेश संस्कृतिक इतिहास

संस्कृति, वैज्ञानिक अनुसंधान एवं ललित कला सम्बन्धी विविध गतिविधियों के संवर्धन एवं सम्पयक् समन्वय हेतु सन् 1957 में ‘इन्डोलाॅजी, संस्कृति एवं साइन्टिफिक रिसर्च’ नामक विभाग की स्थापना की गयी। इस नवसृजित विभाग के कार्यक्षेत्र में संग्रहालय, पुरातत्व, भूविज्ञान एवं खनन, राजकीय वेधशाला, नैनीताल, ‘गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ फाइन आर्ट्स एंड क्राफ्ट '’, वैज्ञानिक अनुसंधान कमेटी एवं अन्य संस्थाये जैसे रजा लाइब्रेरी, रामपुर; जी.एन. झाा शोध संस्थान, इलाहाबाद (वर्तमान प्रयागराज); नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी; यू.पी. हिस्टाॅरिकल सोसायटी; भातखण्डे काॅलेज ऑफ हिन्दुस्तानी म्यूजिक आदि सम्मिलितत थे। सन् 1959 में इसे सांस्कृतिक कार्य एवं वैज्ञानिक अनुसंधानकी संज्ञा दी गई। सन् 1961 में भूविज्ञान एवं खनन सम्बन्धी कार्य उद्योग विभाग को स्थानान्तरित किया गया। कालान्तर में नैनीताल स्थित वेधशाला को इससे पृथक कर सन् 1975 में विभाग का नाम सांस्कृतिक कार्य विभाग रखा गया जिसे बाद में संस्कृति विभाग की संज्ञा दी गई।

सांस्कृतिक कार्यक्रम

संस्कृति विभाग, उत्तर प्रदेश द्वारा अपनी विविध संस्थाओं के प्रयास एवं सहयोग से लखनऊ एवं प्रदेश के अन्य जनपदों में प्रदेश की कला एवं संस्कृति के संरक्षण एवं संवर्धन के उददेश्य से राष्ट्रीय एवं प्रादेशिक स्तर के लब्ध प्रतिष्ठ कलाकारों एवं उदीयमान प्रतिभाओं के विविध प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है -

अधिक पढ़ें

  • गायन

    शास्त्रीय गायन

  • नृत्य

    शास्त्रीय नृत्य

  • वादन

    शास्त्रीय वादन

  • लोक

    लोक गायन

  • लोक-नृत्य

    लोक नृत्य

  • लोक-वादन

    लोक वादन